नसीब

चाँद से मिल रहे थे सितारे
नाव को मिल रहे थे किनारे
साहिलों के रेत से जब पुछा मैंने
क्या कोई है मेरा अपना ?
रेत ने हवा के सहारे से किया मुझे इशारा
दूर नही है मंजिल तुम्हारा
खुसी मैं झूमते लौटी मैं घर को
और झूमते हुए कहा अपने मन को
जज्बात को मैं यूँ न छलकने दूँ
मुट्ठी मैं हर किसी के नसीब नही होता
जिसे चाहो वो कभी करीब नही होता है

No comments:

Post a Comment

वास्ता

जब कोई वास्ता नही तेरा मुझसे , तो फिर आईने को छु कर गुजरता है, हर घड़ी हर लम्हा क्यों अक्स तेरा आब भी मेरा पीछा किया करता है ? क्यों द...