फल्सफां

बाद मुद्दत के पता चल फल्सफां उन्हें
अफसाना बयां कर रहे थे
बात तो हो रही थी मगर लफ्ज नही थे
चाँद बातों मैं ही हम खो गए सपने मैं
सपने तो थे मगर आंखों मैं नींद नही थी
ऐ मेरे दील प्यार तो हुआ है तुझे भी
वरना दरख्तों से मेरा हाल न पुछा करते
यूँ ही न कहा करते दर्द भरा दील तो मेरा भी है
और अफसाना बयां करने को हमसे न पुछा करते
आहीस्ता आहीसता जले तो हो तुम भी
रातों मैं आँख खुली कर सोये तो हो तुम भी
वरना रातों मैं हिचकियाँ हमें आया न करते ...........................

No comments:

Post a Comment

वास्ता

जब कोई वास्ता नही तेरा मुझसे , तो फिर आईने को छु कर गुजरता है, हर घड़ी हर लम्हा क्यों अक्स तेरा आब भी मेरा पीछा किया करता है ? क्यों द...